कहीं मिला कम्बल तो कहीं मिली निराशा, देखिए चित्रकूट और ललितपुर की खबर

तापमान में आयी कमी से बढ़ा सर्दी के असर के कारण प्रशासन ने कम्बलों को बांटना शुरू कर  दिया है। लेकिन चित्रकूट जिला के ब्लाक रामनगर के करौदी कला के लोगों को इसका लाभ नहीं मिला हैं।
मैकू ने बताया कि सात-आठ साल से कम्बल नहीं मिलें हैं। कथरी ओढ़कर सोते हैं।धनपतिया का कहना है कि चादर ओढ़कर सोते है इस तरह की ठंडी में फिर भी कम्बल नहीं मिले है। प्रधान प्रतिनिधी रामराज विश्वकर्मा ने बताया कि असहाय, गरीबी रेखा से नीचे, जिनके घर में नौकरी न हो ऐसे लोगो को कम्बल मिलते हैं। लोगो की सूची बन गयी है जैसे ही तहसील में कम्बल आयेगें लोगों को बांटे जायेगें।
कड़ाके की ठण्ड को देखते हुए जिला ललितपुर के गांव नैनवारा में 5 दिसम्बर को प्रधान ने पच्चीस लोगों को कम्बल बांटा हैं। देवका बाई का कहना है कि प्रधान ने अच्छी क्वालटी के कम्बल बांटे हैं। शबरानी ने बताया कि कम्बल के नीचे चादर और गोदड़ी डालकर सोते है। तीन साल से कम्बल मिल रहें हैं। प्रधान राजीव दुबे का कहना है कि गरीब लोगों को कम्बल बांटा हैं अभी और कम्बल बांटे जायेगें।एसडीएम धीरेन्द्र प्रताप सिंह का कहना है कि अभी तहसील में कम्बल नहीं आयें है जैसे ही आयेगें बांट दिये जायेगें।
रिपोर्टर-सहोद्रा और राजकुमारी

Published on Dec 19, 2017