कहिया तक ले देखु बिजली राह

बल्ब
बल्ब

सरकार चाहई छथिन कि सब जनता के हर गांव में बिजली के सुविधा मिले। लेकिन अभी भी हर गांव में बिजली के सुविधा बहुत कम मिल रहल हई। जबकि बिजली के बिना बहुत काम में बाधा होई छई।
सीतामढ़ी अउर शिवहर जिला में कईक अईसन गांव हई जहां बिजली के नामो निशान न हई। जईसे में सीतामढ़ी जिला के रीगा प्रखण्ड के जयनगर गांव में कहियो से बिजली न रहलईय। अब उहां नवम्बर 2014 में बी.पी.एल. परिवार में तार, बोर्ड, मीटर लाग गेलई। ट्रांसफाॅर्मर लगाबेला पोल भी हल गेलई। लेकिन आई तक बिजली ओई गांव में न अलई। जबकि कि अभी के युग में ज्यादातर काम बिजली से ही होई छई। ऐई बात पर अधिकारी लोग के ध्यान देवे के चाहि। कि समस्या जनता लोग के कतेक परेशानी होई छई। अगर कही तार, पोल, मीटर लगल हई त कही बिजली के पते न हई। कहीं बिना बिजली जलले बिल भी गांव में आ जाई छई। शहरी क्षेत्र में त बिजली के सुविधा रहई छई अउर गांव तक कयला न पहूंच पवई छई। जब ई सुविधा लागू हई त सब लोग के मिले के चाहि। चाहे उ ए.पी.एल.परिवार के लोग हो या बी.पी.एल. परिवार के लोग। एई के लेल कोन छथिन जिम्मेवार?