कहां कीन जई बारात खातिर व्यवस्था

जिला बांदा, ब्लाक महुआ, गांव पैगम्बरपुर। हेंया वार्ड नम्बर चार मा लगभग 20 घर बाल्मीकि जाति के मड़ई हैं। उंई बताइन कि बारात घर न होय से बहुतै दिक्कत है। छुआछूत के कारन उनका सरकारी स्कूल मा भी जगह नहीं दीन जात आय।
फूलचन्द्र, रामदीन, राजेन्द्र अउर सावित्री का कहब है कि उनके बस्ती मा 26 -27 वोटर है। शादी विवाह के समय बारात का जनवास दें मा बहुतै परेशानी होत है। गांव मा सब जाति के मड़इन का स्कूल मिल जात है, पै हमैं छुआछूत के कारन सरकारी स्कूल भी नसीब निहाय। हम बारात घर खातिर प्रधान से कइयौ दरकी कहि चुके हन, पै वा नहीं सुनत आय।
प्रधान सुदामा देवी का मनसवा नत्थू प्रसाद कहत है कि मैं भी चाहत हौं कि बारात घर बन जाय पै गांव समाज के जमीन न होय के कारन बारात घर नहीं बन पावत आय। जनवासे खातिर सरकारी स्कूल दीन जात है। साफ सफाई खातिर कुछ रूपिया जमा करैं का परत है।