कहाँ गई ज्ञानमती? चित्रकूट के बेराऊर गाँव के परिवार का आरोप कि दहेज के लिए किया गायब

जिला चित्रकूट, ब्लॉक पहाड़ी, गाँव बेराउर के रहने वाले मिलनवा का आरोप है कि उसकी बेटी ज्ञानमती को उसके ससुराल वाले ने दहेज़ के खातिर गायब कर दिया है। लेकिन ससुराल वाले इस बात से इनकार कर रहे हैं।
थाने के बड़े दारोगा शैल कुमार सिंह का कहना है कि “मायके पक्ष के लोगों ने रिपोर्ट दर्ज कराई है और अभी मामले कि जाँच चल रही है। इस बारे में ज्ञानमती की माँ का कहना है कि शादी पिछले साल ही हुई थी और शादी में दहेज के नाम पर मोटरसाइकिल और भैंस मांगी गयी थीं। उस समय हमारी आर्थिक हालत सही नहीं थी इसलिए हमने भैंस का आधा पैसा और मोटरसाइकिल का पूरा पैसा दे दिया था। इसके बाद भी ससुराली जन मेरी बेटी को परेशान किया करते थे।
ज्ञानमती की बड़ी अम्मा चाँद देवी का कहना है कि लड़की यहाँ आयी थी। बोली कि ससुर, सास मुझे दहेज़ के लिए कहते हैं। लड़का मुझे पीटता है, गाली-गलोच होती है, वो किसी और लड़की को पसंद करता है।
गांव के अन्य लोगों से इस बारे में पूछने पर पता लगा कि मायके से जब भी कोई ससुराल जाता है तो घर में सिर्फ माँ के अलावा कोई नहीं मिलता हैै। माँ भी पूछने पर जवाब नहीं दी और कह देती है कि लड़की यहाँ नहीं है, जो करना है कर लो।जबकि इस बारे में ज्ञानमती की सास का कहना है कि, मेरे सामने से हो कर गयी है, न जाने कहाँ गयी, क्या मालूम।
ज्ञानमती के पिता का कहना है कि जब बेटी से मिलने गया तब दामाद ने कहा वो मायके ही गयी है लेकिन मेरी बेटी तो घर आई ही नहीं।

Published on 20 Oct 2016