कर्वी में बलात्कार के बाद ह्त्या का मामला – क्या महिला हिंसा कभी बनेगा चुनावी मुद्दा?

जिला चित्रकूट, क़स्बा, मुहल्ला शंकर बाजार मेहरिया अउर बिटियन खातिर सरकार येत्ते नियम अउर कानून बनाइस हवैं पै बुन्देलखण्ड मा रोज महेरिया अउर बिटिया के केस होत हवैं। 13 जनवरी 2017 का एक 13 साल के बिटिया का बलात्कार कइके मार डालिन हवै,फेर वहिके लाश बोरिया मा भर के फेंक दीन हवैं। पुलिश अपराधिन के खोजबीन मा लाग हवैं।
बिटिया के बाप संतराम के मेहरिया रानी का कहब हवै कि हम दूनौ जने काम करित हन। मैं मड़इन के घरन मा झाड़ू बर्तन का काम करत हवै। मोर मनसवा जूठे पत्तल उठावै का काम करत हवै। 13 जनवरी का मै काम करे गइंव रहिव। अबै शाम के काम कइके आइंव तौ मोर 13 साल के बिटिया कहिस मैं मकान मालिक के हिंया टी,वी, देखे जात हौं। तबै मै दुइ थप्पड़ मार के मना कइ दीनेव फिर शाम का काम करे चली गइंव।जबै रात के नौ बजे घर गइंव तौ मोर बिटिया घर मा नहींरहि आय । छोट बिटिया बताइस कि दीदी शाम से घर मा नहीं आय। हम रात भर आपन बिटिया का ढ़ृढ़ेन, पै नही मिली आय। सुबेरे 7 बजे पुलिस हमें एक बोरिया के लाश देखावै का बोलाइन। जबै हम लाश देखेंन तबै पता चला कि वा हमार बिटिया के लाश आय। लाश खून से लथपथ रहि हवैं। हमैं कउनौ के उपर शक नही आय। हम चाहित हन हमै इन्साफ मिले अपराधी पकड़ा जाये।
अपर एस.पी अशोक कुमार का कहब हबै कि पुलिस के पांच टीम या इलाका मा खोजबीन खातिर लगा दीन गे हबैं। जइसेन सबूत मिली तौ अपराधी जल्दी पकड़े जइहैं।

रिपोर्टर- नाजनी रिजवी

Published on Jan 18, 2017