कर्नाटक का एक गाँव जहाँ कभी नहीं घटी कोई साम्प्रदायिक घटना

साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

एक अनोखी प्रयास किया गया है कर्नाटक के एक गाँव में जहाँ विभिन्न समुदाओं के बीच सौहाद्र बढ़ाने के लिए लोगों ने गांव में किसी भी मूर्ति को लगाने से इंकार किया है। राज्य के बीदर जिले में पड़ने वाले इस मन्हाल्ली गांव में उन्नीस हज़ार लोगों से अधिक की आबादी रहती है और यह पूरा गाँव इस नियम को मानता है।
इसका मतलब यह है कि यहाँ कोई भी धार्मिक मूर्ति, राजनीतिक नेता और स्वतंत्रता सेनानियों की कोई भी प्रतिमा इस गाँव में नहीं मिल सकती।
वास्तव में, यहाँ अलग-अलग धर्मों और समुदायों के लोग बिना किसी मतभेद के, शांति और सदभावना के साथ एक दूसरे के साथ रहते हैं और एक दूसरे के सबसे त्यौहारों में जश्न मनाने के लिए एक साथ भी आते हैं।