करत मारपीट, मजदूरी कर करत गुजारा

m mahila muddaजिला महोबा, ब्लाक चरखारी, कस्बा चरखारी। एते के आरती की शादी छह साल पेहले पड़मई गांव के कमलेश साथे भई हती। दहेज कम मिले के कारन ससुराल वाले मारपीट करत हे। जीसे चार साल से आरती मायके रह के गुजारा करत हे।
आरती बताउत हे की मोये बाप ने कमलेश के साथे हिन्दू रीति रिवाज के साथे करी करी शादी में दहेज भी दओ हतो। इत्ते दहेज में ससुराल वालेन कोपेट नई भरो जीसे कमलेश दारू पीके मारपीट करत हतो। ओर कहत हतो की तोय मताई बाप ने दहेज में कछू नई दओ हे। चालिस हजार रूपइया मगां। मे ससुराल में दो साल रही हो में कमलेश के साथे बाहर ईटा पाथन गई ओते भी मारपीट करत हतो ओर खर्चा ख एकऊ रुपइया नईं दये। मोये पन्द्रह दिन को छोट लड़का हतो कमलेश मोये मार के मायके में छोड़ गओ हतो। चार साल से में मायके में रहके गुजारा करत हो। अब मेने खाना खर्चा ओर दहेज प्रथा मो मुकदमा लगा दओ हे। ससुराल वाले राजीनामा को दबाओ बनाउत हे। अगर राजीनामा कर लेंओ तो दुबारा से मारपीट करहें ओर जान से भी मार साकत हे।
आरती को आदमी कमलेश बताउत हे की कोनऊ परेशान नई करत हे ओर न दहेज की कोनऊ बात हे। ऊ घर को काम नई करत हे जीसे लड़ाई होत हे।