कब तक जूझते रहेगें बुन्देलखण्ड वासी

murka 190

जिला चित्रकूट। चित्रकूट जिले में इस समय गर्मी बहुत ही ज्यादा पड़ रही है। हर कोई चाहता है कि पंखे और कूलर में रहे। पर उन लागों की सुने जिनके गांव में ग्रामपंचायत के अलावा मजरों में कोई बिजली कनेक्शन नहीं हैं।
मानिकपुर ब्लाक में बांसठ ग्रामपंचायतों में पचास पुरवो में अभी भी लोग कई पीढ़ी से अंधेरे में गुजारा करते हैं। बगहरा, पवारी, पड़री कलवार, गढ़वा और कैरी कटनासा में बिजली बीस सालों से नहीं है। पड़री गांव के सुमन, सदुवा और रानी ने बताया कि हमारे यहां बिजली नहीं है। इस कारण उजाले के लिए तरसते हैं।
रामनगर ब्लाक में अड़तिस ग्राम पंचायत में दस मजरों में बिजली नहीं पहुंची है। अतरसुई की प्रधान बच्ची देवी ने बताया कि एक साल में सांसद और विधायक से भी कहा है पर कोई सुनवाई नहीं हुई।
कर्वी ब्लाक के चैरान्बे ग्राम पंचायतों में सैकड़ों लोग बिजली के लिए दर दर भटकते हैं। यहां पथरौड़ी गांव के श्याम रैकवार और बच्ची ने बताया कि चार साल पहले बिजली के तार और खम्बे टूट गये तब से अभी तक बिजली नहीं लगी है। मऊ ब्लाक के सन्तावन ग्राम पंचायत में लगभग तीस ऐसे मजरे हैं जहां बिजली नहीं लगी है। मोजरा पुरवा में तीन बरस से तार खम्बे खिंचे हैं लेकिन बिजली नहीं है। मानिकपुर बिजली विभाग के जेई सुनील कुमार पटेल का कहना है कि अभी मानिकपुर ब्लाक में पचास गांव सर्वे किए जा रहे हैं। जैसे जैसे बजट आएगा उसी प्रकार बिजली की व्यवस्था की जाएगी।