कबै तक चली पुलिस के एक ही बात?

जिला बांदा। दलित औरतन के साथै यौन हिंसा अउर अश्लील हरकत करैं का मामला 26 अउर 30 सितंबर का एस.पी. तक पहुंचा। एस.पी. कारवाही करैं का भरोसा दिहिन हैं।
देहात कोतवली क्षेत्र के एक औरत बताइस कि 12 सितंबर का मोहल्ला के राजू सिंह, झाम सिंह अउर गोरे सिंह छेड़खान करिन। मना करैं मा मोरे साथै मारपीट भी करिन हैं। 25 सितंबर का रात के मोरे दुवारे मा आ के गाली गलौज करिन। या मारे 26 सितंबर का एस.पी. के हेंया कारवाही के मांग करे हौं।
जमालपुर कोतवाली एस.ओ. संजय सिंह का कहब है-“मैं या कोतवाली मा अबै हाल मा ही आये हौं। मोर जानकारी मा या मामला निहाय। अगर एस.पी. तक दरखास आई है तौ मोरे लगे जरूर अई। मैं जांच के बाद कारवाही करिहौं।“
यहिनतान का दूसर मामला नगर कोतवाली क्षेत्र का है। एक दलित लड़की बताइस कि मोहल्ला के लड़का राजू पुत्र बुल्लू यादव 29 सितंबर का दुपट्टा पकड़ के खींच लिहिस। विरोध करैं मा अश्लील हरकत करिस। मोबाइल फोन से फोन कइके कहत है कि वा कोतवाली से बोलत है। वहिके कहे के हिसाब से चलै नहीं तौ अंजाम बहुतै बुरा होई। मैं आपन बाप महतारी अउर दाई बाबा के साथै 30 सितंबर का एस.पी. का दरखास दीने हौं।
एस.पी. पीयूष श्रीवास्तव कहत हैं कि दूनौ मामला के दरखास आई हंै। पुलिस भेज के इं मामलन के जांच कराई जई। जांच मा जउन निकल के अई वा हिसाब सेे कारवाही होई।