कत्तौ बुन्देलखण्ड से डकैतन का अंत होइ

जंगलन मा अबै भी चलत हवै डकैतन के तलाश

बुन्देलखण्ड क्षेत्र हमेशा डकैतन के नाम से जाना जात हवै एक डकैत मरत हवै तौ दस पैदा होत हवैं।यहै हाल या समय चित्रकूट जिला मा डकैतन का लइके जघा-जघा पुलिस प्रशासन आपन टीम तौ बनाइस हवै,पै पुलिस आज तक डकैत बबली कोल का पकड़ै मा नाकाम हवै।बबली के ऊपर लगभग छह लाख रुपिया का इनाम हवै
पिछले दस दिन से बबली का पकड़ै खातिर चित्रकूट,महोबा,बांदा अउर हमीरपुर जिलन के पुलिस फ़ोर्स बुलाई गे हवैपै तबहूं अबै तक बबली का पुलिस काहे नहीं पकड़ पाइस हवैपुलिस अउर डकैतन के मुठभेड़ मा दुइ पुलिस घायल होइ गे अउर एक दरोगा के मउत होइ गे हवैडकैत यहै मउका का फायदा उठा के एक से दूसर जंगल मा भागत हवैंका पुलिस के लगे फ़ोर्स के कमी हवैया उनके लगे औजार नहीं आहीं?
जेहिसे उंई बबली  डकैत का पकड़ नहीं पावत आहीं डकैतन के मार तौ सब से ज्यादा गांवन के मड़इन का पड़त हवै।साथै गांव के मड़ई भी डकैत के डेर से घूट-घूट जिन्दगी काटत हवैकहे खातिर तौ डकैतन का अंत होइ गा पै हिंया तौ सैकड़न डकैत पैदा होइ गे हवैयहिसे तौ लागत हवै कि पुलिस प्रशासन एक दम सुस्त हवैफ़ोर्स भी कुछ नहीं कइ पावत आय