औरतन खातिर कानून तौ बना है, पै जिम्मेदारी नहीं

kanoonउत्तर प्रदेष बुन्देल खण्ड के बांदा अउर चित्रकूट जिले। हेंया कारवाही के नाम मा खाना पूर्ती करैं से औरतन अउर लड़कियन के साथैं होय वाली मारपीट, छेड़खानी, बलात्कार अउर दहेज हत्या जइसे के मामला दिनै दिन बढ़त जात हैं।
खैर या बात का नकारा नहीं जा सकत आय कि पुलिस सोच समझ के साथैं कउनौ भी मामला मा कारवाही करत है। अब सवाल या उठत है कि या कउनतान के सोची समझी कारवाही आय। जेहिमा पुलिस का छेड़खानी, दहेज उतपीड़न अउर बलात्कार जइसे के मामलन मा मारपीट गाली गलौज अउर चोरी जइसे के धारा लगावैं का परत है। या फेर समझौता करा के मामलन का रफा दफा कीन जात है।
एक कइती कानून कहत है कि दहेज हत्या, मारपीट, छेड़खानी अउर बलात्कार जइसे के मामलन मा कारवाही करैं खातिर औरतन के बयान ही काफी हैं, पै दूसर कइत अगर इं मामलन के सच्चई का झांक के दिख जाय तौ 2012 मा दिल्ली मा भे सामूहिक बलात्कार के बाद से औरतन के ऊपर होय वाली हिंसा घटै का नाम नहीं लेत आय। चाहे सरकार कइत से जेतने भी नवा कानून बनाये जाय।
बुन्देलखण्ड मा बढ़त हिंसा के षिकार औरतन का देख के उत्तर प्रदेष सरकार भी गुजरात मा चलैं वाला 1090 हेल्फ लाइन नंबर का नियम लागू करिस है, पै का सरकार या कानून से औरतन साथै होय वाले अत्याचार मा काबू पाई या फेर पुलिस विभाग के चक्कर लगावै मा बीत जात है। निपटारा समझा मा नहीं आय।