ओलम्पिक खेल खेलै कै सपना

mahila mudda (2) copyजिला फैजाबाद, रामनगर। हिंआ कनौसा कान्वेंट इण्टर कालेज मा पढ़ै वाली पन्द्रह साल कै अर्पणा द्विवेदी खेल खेलाथिन। इनका कइयौ अवार्ड मिल चुका बाय।

अर्पणा द्विवेदी बताइन कि हम बचपन से खेल खेलत हई। स्कूल मा खेल सिखावा जात रहा। रोज देखत रहेन। फिर खेल मा हमहूं एडमीशन कराय लिहन। धीरे-धीरे खेल मा आगे बढ़ेन। अब आल-इण्डिया मा खेलै जाइथी शुरू से अंग्रेजी मीडियम मा पढ़त हई। अबहीं कक्षा दस मा पढ़त हई। दुसरे का अवार्ड मिलै हमै न मिलै तौ हमै गुस्सा लागत रही। घरवाले काफी समझाइन। अउर आज आल अण्डिया मा टाइगोनेडो, फुटबाल खेल खेलत हई। दिल्ली गाजियाबाद अलीगढ़ जैसे शहर मा अबहीं तक खेलै गा हई। हमार सपना बाय ओलम्पिक मा जाए का। वकरे बाद आर.वी. मा नौकरी करब। घरवाले कै पूरा सहयोग बाय। हमरौ इहै सोंच बाय कि हमरे तरह हर लड़की-लड़का आगे बढ़ै।