एशियाई खेलों में भारत का परचम लहराया अब तक जीते 36 पदक, आगे जंग जारी

साभार: विकिपीडिया

इंडोनेशिया के जकार्ता-पालमबंग में खेले जा रहे 18वें एशियन गेम्स के 7वें दिन तेजिंदर पाल सिंह ने भारत को गोल्ड मेडल दिलाकर देश का नाम फिर रोशन किया है।

भारतीय महिला एथलीट दुती चंद ने 100 मीटर रेस में रजत पदक जीत लिया। दुती ने फाइनल में 11.32 सेकेंड के समय लेकर दूसरा स्थान हासिल किया। दुती ने सेमीफाइनल में 11.43 सेकेंड के समय लेकर तीसरा स्थान हासिल किया और फाइनल के लिए क्वालीफाई किया था।

वहीं विश्व जूनियर चैंपियनशिप में 400 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास बनाने वाली 18 साल की हिमा ने शानदार प्रदर्शन किया और 50.79 सेकेंड का समय लेकर रजत जीता।

हिमा की कामयाबी के बाद अनस ने भी शानदार प्रदर्शन किया और पुरुषों की 400 मीटर दौड़ में रजत पदक जीत लिया। केरल के 23 वर्षीय अनस का एशियाई खेलों में यह पहला पदक है। उन्होंने गत वर्ष भुवनेश्वर में एशियाई चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता था जबकि इस साल राष्ट्रमंडल खेलों में वह चौथे स्थान पर रहे थे।

हिमा इस साल गोल्ड कोस्ट राष्ट्रमंडल खेलों में 400 मीटर दौड़ में छठे स्थान पर रही थीं लेकिन फिनलैंड में हुयी जूनियर विश्व चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतकर यह कारनामा करने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी बनी थीं। असम के नागांव की हिमा ने इस तरह भारत को इन खेलों में एथलेटिक्स का दूसरा और अनस ने तीसरा पदक दिला दिया। तजिंदरपाल सिंह तूर ने कल पुरुष गोला फेंक स्पर्धा में स्वर्ण पदक जीता था।

इस तरह देखा जाये तो भारत ने एशियाई खेलों के आठवें दिन का समापन कुल 36 मेडल के साथ किया। इन खेलों में भारत ने अब तक 7 गोल्ड, 10 सिल्वर और 19 ब्रॉन्ज मेडल जीते हैं।

जबकि ताज़ा जानकारी के अनुसार, भारत की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी पीवी सिंधु ने एशियाई खेल 2018 में महिला बैडमिंटन सिंगल्स के फाइनल में पहुंचकर इतिहास रच दिया। वह एशियाई खेलों के इतिहास में बैडमिंटन महिला फाइनल्स में पहुंचने वाली भारत की पहली टेनिस खिलाड़ी बनी।