एक हज़ार दस हफ्ते – ये फिल्म थी लंबी रेस का घोड़ा

फोटो साभार : मिड-डे
फोटो साभार : मिड-डे

उन्नीस साल बाद भी ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ का जादू कायम है

मुम्बई, महाराष्ट्र। 19 अक्टूबर 1995 को एक ऐतिहासिक प्रेम कहानी ने लोगों को प्यार करने को प्रेरित किया और मुम्बई के मराठा मंदिर सिनेमा हाॅल में 19 फरवरी 2015 तक ये फिल्म लगी रही। लगभग बीस सालों में एक बार भी फिल्म का शो देखने कुछ लोग हमेशा आए होते थे। पर क्योंकि हज़ार में से कुछ सौ ही सीट भरती थीं सिनेमा हाॅल को शो का समय सुबह सवा नौ का करना पड़ा। आखिर में फिल्म को उतार देने का फैसला लिया गया। 19 फरवरी को आखिरी शो होना था पर चाहने वालों का दुख इंटरनेट पर छा गया और अब मराठा मंदिर ने फिल्म को एक और हफ्ते चलाने का फैसला लिया है। इसके बाद आगे क्या करना है, इस पर सोचा जाएगा।