इ समस्या पर जांच होतई

IMG_0009जिला सीतामढ़ी, प्रखंड बथनाहा मिनि इलाहाबाद बैक में जन-धन योजना के तहत खाता मुफ्त में खोले के हइ। लेकिन उहां के कर्मी सब जनवरी 2015 से खाता खोलावे वाला से एक सौ रूपईया लेइ छथीन। जबकि दोसर बैंक में रूपईया न लगई छई।
बथनाहा के गुडि़या देवी, रमेश कुमार कहलथिन कि सरकार गरीब लोग के लेल कोई योजना लागू करइ छथिन लेकिन ऐइ से कुछे दिन गरीब के सहायता होई छई। लेकिन ओई के बाद अधिकारी गरीब से रूपईया लेवे लगइ छथिन। हम सब इलाहाबाद बैक में खाता खोलावे गेली त हमरा सब से एक सौ रूपईया मांगलक हमसब त जनईत रहली कि जन-धन योजना में बिना रूपईया के खाता खुलई छई। इ फेर काहे के रूपइया गरीब लोग से लेइ छथिन।
मिनी इलाहाबाद बैक के कर्मी दीपक कुमार कहलथिन कि दिसम्बर 2014 तक सब के में खाता मुफ्त खुललइ लेकिन लोग खाता खोलाके घर में जाके बैठ गेलथिन। बैक से लेन देन न करइ छथिन त केना बैक के काम होतई। जे कर्मी मिनी बैक में काम कर रहल हइ उनका सब के रूपइया न मिलई छई, यहि से खाता खोलावे वाला लोग के एक सौ रूपईया लेइ छी। जे खाता खोलबतइ उ एक सौ रूपइया देतइ ओकरे खाता संख्या मिलतई।
इलाहाबाद बैक मैनेजर अमिर कहलथिन कि इ जन-धन यांजना के खाता मुफ्त में खोले के हई। अगर कोइ कर्मी रूपईया जनता से लेई छई त उ हमरा पास आवेदन देथिन त तब जांच कर के कर्मी के हटा देल जतई।