आपने गुड़ तो खूब खाया होगा पर कैसे बनता है गुड, नहीं पता? तो चलिए फैजाबाद के कारनियावा गाँव में

फैजाबाद जिला के गांव कारनियावा मा बनै लाग गरमागरम गुड़। सेहत कै खजाना कहा जाय वाले यहि फैजाबादी गुड़ कै खुशबू आसपास के जिला से लइके बिहार तक फैलत बाय।तौ आप सब भी आवै गरमागरम गुड़ खाय। चला जाना जाय कैसे बनाथै गुड़?
संजय कुमार कारीगर, सीतापुर कै कहब बाय कि पहले गन्ना कै पेराई कइके पहली कड़ाही मा रस आवाथै वकरे बाद दूसरी कड़ाही मा आवाथै पकावा जाथै फिर तीसरी कड़ाही मा रबड़ी बनाथै। फ्रेस गुड़ बनै के बाद चाक पै आवाथै फिर भेली बांधके बाहर भेजा जाथै।
गायत्री देवी ग्राहक कै कहब बाय कि यहिंके गुड़ बहुत अच्छा अउर तीस रुपया किलो बाय।केमिकल नाय परत जेसे खाय मा यकै स्वाद बढ़ी जाथै।
अरुण कुमार सिंह क्रेशर मालिक कै कहब बाय कि यूपी मा बनारस, गाजीपुर, बिहार, जौनपुर सप्लाई कीन जाथै। जउने हिसाब से मंडी मा भाव रहाथै वहि हिसाब से बिकाथै।

रिपोर्टर- कुमकुम यादव

Published on Feb 12, 2018