आपको कराटे सीखना है? आइए वाराणसी जिले के चिरईगांव में

कराटे एक ऐसा शब्द है जिसे सुनकर सबसे पहले सुरक्षा का ख्याल आता है। कराटे एक जापानी शब्द है जिसका अर्थ है खाली हाथ। कराटे में हाथ और पैर को तलवार और चाकू की तरह प्रयोग किया जाता है इसलिए इसे सुरक्षा कवच भी माना गया है। वाराणसी जिले के चिरईगांव में बच्चों को कराटे की ट्रेनिंग दी जाती है।
समाज सेवी संजय कुमार मौर्य का कहना है कि जो सारनाथ में गौतम बुद्ध थे उन्होंने इसकी खोज की है और जंगल जाने वाले अपने शिष्यों को सिखाया है।
छात्रा प्रभा मौर्य का कहना है कि जब से कराटे सीखने लगी हूँ मेरा आत्मविश्वास बढ़ गया है। अब रास्ते में कोई हमारे साथ कुछ करे तो हम उसका जवाब दे सकते है। टिया का कहना है कि परिवार के लोग सोंचते हैं कि लड़कियां नहीं सीख सकती है तो हमें उन्हें समझाना पड़ेगा कि लड़कियां भी कराटे सीख सकती है। रुपाली का कहना है कि लड़कियों को कराटे सीखना चाहिये।

रिपोर्टर- सुशीला

Published on Mar 29, 2018