आदिवासी, दलित और मुस्लिम किसी अन्य सामाजिक समुदाय की अपेक्षा जल्दी मरते हैं

एक विश्लेषण के अनुसार, 43 साल में मर जाना, आदिवासियों (अनुसूचित जनजाति या जनजाति) की औसत दर है जिसका अर्थ है कि उनकी अन्य भारतीयों की तुलना में जल्दी मरने की सम्भावनाएं हैं।
भारत, 2004-14 मेंजाति, धर्म और स्वास्थ्य परिणामों का विश्लेषण में यह पाया गया है कि आदिवासियों के अलावा, यदि आप दलित (अनुसूचित जाति या अनुसूचित जाति) या मुस्लिम हैं, तो आप उनसे थोड़ी अधिक उम्र जीने की संभावना रखते हैं. यहाँ  गरीब स्वास्थ्य से पीड़ित होते हैं और उन्हें स्वास्थ्य सुविधाएँ किसी अन्य की तुलना में कम पहुंचती हैं, जो उनकी जल्दी मौत का एक बड़ा कारण हो सकता है!
2014 के एक दशक पहले से, आदिवासियों को छोड़कर सभी सामाजिक समूह, 2004 से ज्यादा लंबे समय तक जी रहे थे। इसमें  अनुसूचित जातियों के लिए मृत्यु की औसत उम्र 2004 के बाद से घट गई है जो अब 45 साल है। दलितों की औसत उम्र 42 थी, जो 2014 आने तक 6 साल बढ़ गई है।
ऊपरी वर्ग के गैरमुस्लिमों के परिवार को वर्ष 2006 में 60 वर्ष की उम्र तक जीते थे, किसी अन्य पिछड़े मुस्लिम परिवारों के अपेक्षा वह 2004 के 55 वर्ष से अधिक ही जी रहे थे।
भारत में अपनी स्वास्थ्य स्थिति का निर्धारण करने के लिए किसी व्यक्ति की आर्थिक और सामाजिक स्थिति की तुलनात्मक भूमिका का मूल्यांकन किया जाता है. इस विश्लेष्ण में 2004 और 2014 के राष्ट्रीय नमूना सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएसओ) डेटा का इस्तेमाल किया गया है।
एनएसएसओसामाजिक समूहऔरधर्मश्रेणियों को मिला कर परिवारों को छह समूहों में विभाजित किया गया थाजिनमें से 56% हिंदू थे और 33% ईसाई थे, दलित जिनमें से 93% हिंदू थे, गैरमुस्लिम अन्य पिछड़े वर्ग, मुस्लिम अन्य पिछड़े वर्ग और गैरमुस्लिम उच्च वर्ग शमिल थे।
गैरसामाजिक समूह चार श्रेणियों में जाति और धर्म से संबंधित नहीं बल्कि एक मजदूर का औसत जीवन (45.2 वर्ष) गैरमजदूर (48.4 वर्ष) की तुलना में तीन वर्ष से भी कम समय का आँका गया था। इसी तरह, “पिछड़ेया कम विकसित राज्य में रहने सेआगेया अधिक विकसित राज्य (51.7 वर्ष) में रहने के मुकाबले सात साल से अधिक की मृत्यु की औसत आयु (44.4 वर्ष) कम रही, ये माना गया।

फोटो और लेख साभार: इंडियास्पेंड