आजाद भारत के पहले वोटर ‘शाम सरन नेगी’

फोटो: विकिमीडिया कॉमन्स

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर जिले में एक दूरदराज के गांव में रहने वाले श्याम सरन नेगी 100 साल के हो गए हैं। नेगी ने पहली बार अक्टूबर 1951 में देश के पहले आम चुनावों में अपना वोट डाला था और वह आज़ाद भारत के पहले वोटर बने थे।
2010 में भारत के तत्कालीन चुनाव आयुक्त नवीन चावला नेगी को 2014 के लोकसभा चुनावों का ब्रांड एंबेसडर नियुक्त किया गया था। श्याम सरण नेगी लोकसभा चुनाव में 16 बार और राज्य के विधानसभा चुनावों में 12 बार मतदान कर चुके हैं।
उच्च ऊंचाई वाले क्षेत्रों में भारी हिमपात की आशंका के बावजूद श्याम सरण नेगी ने किन्नौर जिले में स्थित चिनी में पहली बार 1951 में वोट किया था। नेगी कहते हैं कि हर किसी को अपनी नियति लिखने के लिए वोट देना चाहिए।
बता दें कि श्याम शरण नेगी पर चुनाव आयोग ने डॉक्यूमेंट्री भी बनाई है। उन्हें भारत के निर्वाचन आयोग ने भी सम्मानित किया है। हर चुनाव में वोट डालने के लिए पहुंचने वाले नेगी लोकतंत्र में भारतीय आस्था के प्रतीक बन चुके हैं। उन्हें मतदान केंद्र तक लाने के लिए प्रशासनिक अधिकारी खास वाहन का इंतजाम करते हैं। साथ ही रेड कारपेट भी बिछाया जाता है।