आखिर कैसे हुई चित्रकूट जिले के कोटरा खम्बा गाँव के रामबालक कि मौत, जवाब किसी के पास नहीं

जिला चित्रकूट, ब्लाक मऊ, गांव कोटरा 4 फरवरी का रामबालक के कउनौ हत्या कइके तालाब के लगे फेंक दिहिन हवैं। रामबालक मछरी मारे गा रहैं। हत्या के रिपोर्ट दर्ज होइगै हवै।
राम बालक के मेहरिया मीरा का कहब हवै कि मोर मनसवा सीधा पिसान लइके बंधा गये रहै हवैं। बंधा हिंया से बहुतै दूरी हवै। बंधा मा कउनौ मोर मनसवा का जान से मार डारिस हवैं।
बाप छेदी लाल का कहब हवै कि जबै या घटना भे रहै तबै मैं घर मा नहीं रहे आहूं। मैं इलाहाबाद गये रहे हौं। जबै मोहिका सूचना मिली तौ आये हौ लाश थाना मा रहि हवैं। पोस्टमार्टम मा पांव मा दुइ जघा निशान बने रहै। पता नही करेन्ट लागे से वहिके मउत भे हवै कि कउनौ वहिका जान से मारा हवै।महतारी बलिया का कहब हवै कि मोर लड़का के कउनौ दुश्मनी नही रहि आय। पता नहीं को मोर लड़का का मारा हवैं। मोर लड़का के गर्दन कटी रहि हवैं।
मऊ थाना के मुंशी इन्द्रपाल सिंह का कहब हवै कि रामबालक के मेहरिया मीरा देवी के तहरीर के आधार मा अज्ञात मड़इन के नाम मुकदमा दर्ज कइ लीन गा हवै। हत्या का अबै तक कुछौ पता नहीं चला आय। हत्या बहुतै भयानक तरीका से गला काट के कीन गे हवै।

रिपोर्टर- सुनीता

13/02/2017 को प्रकाशित