आए आए रे रंग बिरंगे गुब्बारे

manorenjen karviजि़ला चित्रकूट, ब्लाॅक कर्वी। इस समय अलग-अलग जि़लों और राज्यों से रोज़ी-रोटी के लिए खेलकूद दिखाने वाले, सामान बेचने वाले आए हैं। साथ ही बच्चों के लिए रंग-बिरंगे गुब्बारे लेकर आए हैं। गुब्बारे तो बच्चों को बहुत ही पसंद हैं। पर अगर गैस वाली हवा का गुब्बारा मिल जाए तो बच्चे तो फूले नहीं समाते हैं।
रामसुख जो बिहार के रहने वाले हैं। यहां पर दीपावली के मेले की वजह से गुब्बारे बेचने आए हैं। रामसुख बताते हैं कि वे हर साल चित्रकूट में दीपावली के एक महीने पहले आ जाते हैं और दीपावली की एकादषी के बाद वापस जाते हैं। उनकी अच्छी कमाई हो जाती है। बच्चे गुब्बारा पसंद करते हैं। ‘पांच रुपये से लेकर बीस रुपये तक का गुब्बारा बेचता हूं। गैस भरने वाली मषीन भी साथ में रखता हूं।’