अलवर हत्याकांड में गोरक्षक ही हैं आरोपी

फोटो साभार: विकिमीडिया कॉमन्स

राजस्थान के गोविंदगढ़ में कथित गो तस्करों पर हमला करने के आरोप में पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है।
इन आरोपियों ने अपनी पहचानगो रक्षक दलके रूप में बताई है और उमर पर हमला करने और उसके शरीर को क्षतविक्षत करने के आरोप को भी स्वीकार कर लिया है।
10 नवम्बर को ट्रक में गायों को ले जा रहे तीन लोगों पर कथित गोरक्षक दल ने हमला कर दिया था। इसमें उमर की मौके पर ही मौत हो गई जबकि बाकि दो लोगों को हरियाणा के हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया।
मामले में पुलिस ने दावा किया है कि उमर और उसके दो साथी, ताहिर और जावेदअभ्यस्तपशु तस्कार थे, जो गायों को ले जाने के लिए एक चोरी किया हुआ ट्रक का इस्तेमाल कर रहे थे।
वहीं अलवर के एएसपी मूल सिंह राणा ने बताया, ‘हमने रामवीर गुज्जर और भगवान सिंह को गिरफ्तार किया है। दोनों ने उमर और उसके साथियों पर हमले की बात स्वीकार की है। दोनों ही घटनास्थल के पास के ही एक गांव के रहने वाले है
आरोपियों ने बताया कि एक खाली ट्रक उनके गांव से गुजरा, जिस पर उन्हें गाय की तस्करी का शक हुआ। उन्होंने योजना बनाई कि अगर वो गायों को साथ लौटे तो उन्हें रोकेंगे। बाद में ऐसा ही हुआ। इस पर उन्होंने ट्रक को रोकने के लिए सड़क पर कील फेंक दीं। लेकिन ट्रक फिर भी कुछ दूरी तय कर चुका था। इस दौरान पहले हम पर फायरिंग की गई, जिसके जवाब में हमने भी फायरिंग की। अपने चार साथियों की मदद से उन्हें पकड़ने की कोशिश की।
एएसपी मूल सिंह राणा के अनुसार, ‘आरोपियों ने उमर के शरीर को क्षतविक्षत कर रेलवे ट्रेक पर फेंक दिया। जिससे हत्या की घटना लगे।
उनके खिलाफ आईपीसी की धारा 302 (हत्या), 307 (हत्या की कोशिश), 147 (दंगा) और 201 के तहत केस दर्ज किया गया है।
सम्बन्धित स्टोरी पढ़ने के लिए लिंक पर क्लिक करें