अयोध्या की रणभूमि में उतरे बसपा के बज़मी सिद्दीकी

जिला फैजाबाद, अयोध्या। उत्तर प्रदेश में अयोध्या से बसपा ने मुस्लिम उम्मीदवार बज़्मी सिद्दिकी को चुनाव में उताराहै। 1980 के बाद ये पहली बार हुआ है कि किसी पार्टी ने अयोध्या से मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट दिया है। सिद्दिकी पहली बार चुनाव लड़ रहे हैं। बसपा के इस प्रत्याशी पर अक्टूबर में एक महिला ने बलात्कार का आरोप लगायाहै,जिसे वह पूरी तरह से झूठा बताते हैं।

फैजाबाद के साइकिल कारोबारी बज़्मी सिद्दिकी अब रियल एस्टेट का काम भी करते हैं। उनके अयोध्या से प्रत्याशी चुनने के बाद खबर लहरिया उनसे रूबरू हुआ, पेश हैं इस मुलाकात से कुछ अंश-

?- आप आपने राजनीति सफर के बारे में बताएं?

बज़्मी सिद्दिकी-  मैं 11 साल से राजनीति में हूं और शुरु से बहुजन समाज पार्टी में हूं। मैंने बसपा से अपना राजनीति सफर शुरू किया और मरते समय तक बसपा में रहूंगा।

?- अपने चुनावी क्षेत्र अयोध्या के मूल मुद्दों के बारे में आप क्या सोचते हैं?

बज़्मी सिद्दिकी- महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़े हैं, साथ ही सड़क और नाली की समस्याएं हैं। बरसात के दिनों में अयोध्या और फैज़ाबाद पानी से भर जाता है। मैं इन ही समस्याओं पर काम करना चाहता हूं।

?- महिलाओं के खिलाफ अपराधों को कम करने के लिए आपके पास क्या योजना हैं?

बज़्मी सिद्दिकी- बसपा की पहली सरकार में भी महिलाओं की सुरक्षा के लिए बहुत काम हुआ है, इसलिए एक बार सरकार आ जाए तो महिलाओं के लिए बसपा की योजनाओं को फिर से लागू कर देंगे। वैसे महिलाएं खुद भी अन्य सरकारों की तुलना बसपा की सरकार में ज्यादा सुरक्षित समझती हैं।

?- आप पर खुद भी एक महिला ने बलात्कार का आरोप लगाया था। उस आरोप पर आपका क्या कहना है?

बज़्मी सिद्दिकी- वह आरोप तो पूरी तरह से राजनीतिक साजिश थी। मेरी छवि खराब करने की नाकाम कोशिश थी।जिस महिला ने ये आरोप लगाया था, उसने पहले भी कई अन्य लोगों पर ऐसे आरोप लगाकर पैसे वसूले हैं।

?- अयोध्या में चुनाव को अकसर धार्मिक जंग का रुप दे दिया जाता है। इस पर आपका क्या कहना है?

बज़्मी सिद्दिकी- अयोध्या में हिन्दू-मुसलामान में एकता है, जो धार्मिक जंग की खबरे आती हैं, वे आरएसएस के द्वारा फैलाई हुई हैं। अयोध्या मंदिर के पास 8 से 10 हजार मुसलमान रहते हैं, जो वहां पर सुखी हैं। वहां पर कोई भी धार्मिक जंग नहीं है।

?- सत्ताधारी पार्टी के शासन के बारे में आप क्या कहेंगे?

बज़्मी सिद्दिकी- देखिए, प्रदेश ने भाजपा, सपा और बसपा तीनों की सरकार देखी हैं, जिसमें सबसे अच्छी सरकार बसपा की थी, जिसमें एक भी दंगे नहीं हुए थे। वहीं सपा की सरकार में मुस्लिम ध्रुवीकरण के लिए कई दंगे होते हैं। आप इतिहास में देख लें कि सपा की सरकार में उत्तरप्रदेश दंगों की आग में जला है।

बज़्मी सिद्दिकी अयोध्या में अपनी जीत का परचम लहराने के लिए अपना पूरा दमखम लगाने  में लगे हैं। पर देखना अब ये हैं कि क्या अयोध्या के लोग पिछले चुनाव की तरह इस बार भी कुछ लीक से हटकर करके का मन बना चुके हैं, क्योंकि 1991 के बाद से इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने बेरोक 21 साल तक राज किया। पर 2012 के विधानसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी के पवन पांडे ने भाजपा के लल्लू सिंह को हराकर इस सीट पर भाजपा का एकाधिकार खत्म कर दिया था।

रिपोर्टर- शालिनी और मनीषा 

27/01/2017 को प्रकाशित