अम्बेडकरनगर जिले में बांध टूटने से सिर्फ फसल ही नहीं किसानों की साल भर की मेहनत भी बही

जिला अम्बेडकरनगर, ब्लाक टांडा गांव हसनपुर, सुन्थर किसान मेहनत से खेती कराथिन लकिन कबहूं सूखा तौ कबहूं बाढ़ इनके मेहनत पै पानी फेर दियाथै।ऐसा ही हसनपुर गांव के किसान के साथे भा जब 26 जून का शारदा सहायक नहर कै बांध टूटगा अउर उनकै फसल बहिगए।जिला अम्बेडकरनगर, ब्लाक टांडा गांव हसनपुर, सुन्थर किसान मेहनत से खेती कराथिन लकिन कबहूं सूखा तौ कबहूं बाढ़ इनके मेहनत पै पानी फेर दियाथै।ऐसा ही हसनपुर गांव के किसान के साथे भा जब 26 जून का शारदा सहायक नहर कै बांध टूटगा अउर उनकै फसल बहिगए। किसान मुन्नालाल कै कहब बाय की पुल के बगल मा एक दूसर पुल ढाला जात रहा नहर खोद के बांधा गा रहा लकिन पानी कै बहाव ज्यादा हुवय से नहर टूटगा। यकरे पहिले भी एक बार नहर टूट रहा जेहमा लगभग सौ बीघा गेहूं बर्बाद होइगा रहा।पिपरमिंट, अरुई, उड़द, सब बर्बाद होइगा। प्राणपति कै कहब बाय की सुबह नौ बजे नहर टूटी चारव तरफ पानी भरिगा।सतीश गौड़ कै कहब बाय की नहर बिभाग कै अधिकारी आय रहे लकिन जवन नुकशान भा बाय वक्रे ताई कुछ नाय बोलिन। मुन्नालाल कै कहब बाय की जाम लगाये रहिन ताऊ उल्टा जनता के ऊपर ही लाठी चार्ज करिन।एक मनई का बंद भी करिन।  येस पहली बार नाय भा बाय जब बांध टूट मनइन कै घर तक बहिगा लकिन बिभाग से कुछ मुआवजा नाय मिला। जनार्दन नायब तहसीलदार कै कहब बाय की पानी कै दबाव ज्यादा हुवय से नहर कटा रहा बंद कराय दीं गा बाय। एकै सूचना एनी अधिकारी का तत्काल दीं गए रही लेखपाल मौके पै मौजूद रहे।जनता सड़क पै जाम लगाये रही जेसे मौके पै पहुची पुलिस जाम खोलवाईस। किसानन के नुकसान कै आकलन कै लीनगा बाय। मुआवजा दीन जाये।

रिपोर्टर- मनीषा

11/07/2017 को प्रकाशित