अभे भी शौचालय खा भटकत

Mahoba Kabrai - Gahra Shauchalay webजिला महोबा, ब्लाक कबरई, ई ब्लाक के अलग अलग गांव के आदमी आज भी शौचालय से दूर हे। जीसे सरकार को चलाओ अभियान पूरो होत नई दिखात हे।

खन्ना कस्बा के दलित बस्ती के सिया, अनीता ओर ऊषा बताउत हे कि ई गांव में लगभग सौ आदमियन को परिवार हो हे। जोन रात बिरात बाहर टट्टी होंय जात हे। कोनऊ खा शौचालय नई बनो हे। गरीब आदमी मजदूरी करके परिवार पालत हे। इत्तो नई बचा पाउत हे कि घर बखरी बनवा सकन, बच्चन की पढ़ाई लिखई के साथे घर को खर्च चला सकन। जीसे हम लोग बाहर मैंदान में ट्टटी होंय जात हे। घण्डुआ गांव की सुशीला, माया ओर सुनील कहत हे डेढ़ किलोमीटर दूर ट्टटी होंय जात हे। बरसात ओर ठण्डी में परेशानी होत हे। सरकार नाम के लाने योजना बनाउत हे। एक योजना को लाभ नई मिल पाउत हे, दूसर चालू हो जात हे। एई से बीचई में खत्म हो जात हे।

घण्डुआ गांव को प्रधान रामकिसुन ने बताओ कि 2015 में गांव लोहिया भओ हे। जीमें पचहत्तर शौचालय आये हे। बाकी दुबारा के लिस्ट में शौचालय आहे।

महोबा सी.डी.ओ. शिवनारायण से बात करें की कोशिश करी पे नई हो पाई हे।