अब न सोहे कोनऊ भूखो

mahoba sahar kasba seमहोबा शहर में बुंदेली समाज रोटी बैंक के तहत पांच सौ भूखें आदमियन खा खाना देत हतो। अब नई साल में नये तरह से शुरू करो हे। जोन 7 जनवरी से सुरू हो गओ हे।
बुंदेली समाज रोटी बैंक के संयोजक तारा पाटकार कहत हें की 15 अपै्रल 2015 से रोटी बैंक महोबा में शुरू करो हतो। रोज शाम खे सात सौ घरन से बचो खाना मगां के लगभग पांच सौ आदमियन खा रेलवे स्टेशन,बस स्टैण्ड, मेंन चैराहा ओर शहर में बनी कांशीराम कालोनी में ऊ खाना देत हते। जनवरी से छिकहरा गांव को मजरा मुल्ला के खोड़े में दओ जात हे। जीसे कोनऊ आदमी भूखों न सोये।
(अध्यक्ष) हाजी पावेश मोहम्मद (मुट्टन चच्चा) (कोषाध्यक्ष) हरिओम ताम्रकार ओर महामंत्री अजय बरसैयाॅ कहत हें की नई साल में अब नये तरह से भूखे आदमियन खा खाना इक्कटठा करो जेहे। महोबा जिला में 7 जनवरी से हर मेन चैराहा में रोटी बैंक की शाखा बनाई जेहे। आदमी सुबेरे 10 बजे से शाम 7 बजे तक अने घर को खाना ऊ बाक्स में डाल सकत हे। ईखे साथ की गाय के लाने बासो खाना भी दे सकत हे। जीसे शहर में कोनऊ भी गरीब आदमी भूखो न सोये।
साथे जा भी कहो की सड़क में मांगे वाले भिखारी खा पैसा न देय ओर खाना देय। नई तो रोटी बैंक जघा तक भेज देय। गरीबन खा होम्योपैथिक इलाज भी फ्री हो हे। जीसे देश भिखरी न रहे ओर न ही भूख ओर बिमारी से मरे।