अबै तक नहीं बनी गौशाला

साभार: विकिपीडिया
साभार: विकिपीडिया

उत्तर प्रदेश मा हर जघा मड़ई या समय अन्ना जानवर से बहुत परेशान हवैं गांव के मड़ई तो इं जानवरन के कारन बहुतै परेशान हवैं
यहै कारन मड़ई डर के मारे आपन फसल तक नहीं बोवत है किसान कउनौतान फसल बो लेते हवैं तौ अन्ना जानवर के कारन नहीं बच पावत हवैं अबै तक किसान सूखा अउर बाढ़ के मार झेलत रहैअबै यहिमा से नही उबर पाये रहे कि अन्ना जानवरन के नुकसान से परेशान हवैं गरीब किसानो के लिये तौ खेतन मा बोया अनाज उनके खातिर सब कुछ आय सरकार अबै तक अन्ना जानवरों के लिये कउनौ ठोस कदम नहीं उठाइस आय न अबै तक कतो गौशाला बनी हवैं न यहिके लाने कउनौ बजट आवा आय गांव के मड़ई तौ इं जानवरों से परेशान हवैं पै शहर मा भी इं जानवरों से बहुतै नुकसान होत हवैंआये दिन कतो न कतो इ जानवरन के कारन घटना होत रहत हवैं।
किसानन की समस्याओं को देखते हुये 3 तारीख को कलेक्टेट में मीटिंग कराई गई है जेहिमा डी एम मोनिका रानी ने किसानन कीसमस्याओं के समाधान करकने का कहा। मीटिंग मा गज ब्लाक में गोशाला बनाने कि खातिर जमीन उपलब्ध करावे का कहिन अब या देखे का है या गोशाला कबे तक मा बन के तैयार होत हवै अउर किसानन का अन्ना जानवर से छुटकारा पावत हवै। किसानन के फसल बच पावत हवै।