अपने बनाउ खुद से लाभ उठाउ

fg
धसल शौचालय

जिला सीतामढ़ी, प्रखण्ड रीगा गांव खैरवा। उहां लगभग बीसो आदमी साल भर पहिले शौचालय बनबलथिन। जेकर एको दिन उपयोग न कलथिन लेकिन उ धस गेलई।
उहां के गणेश राउत, दिनेश राउत, रामसेवक राउत सब कहलथिन कि हमरा सब के गांव के ही एक आदमी शौचालय बनावे ला कहलथिन। हम सब तीन-तीन सौ रूपईया देली अउर शौचालय बनावे लागल। एहन बना देलथिन कि जेइमें आदमी अच्छा से बइठ न सकई छई। जमीन के अन्दर ईटा न देलथिन उपर से ही दिवाल जोड़ देलथिन अउर सीट बइठा देलथिन। रिंग देबो न कलथिन। एहन बनल हई कि देवाल भी टेढ़ हो गेल हई। हमर एतना जगह भी छेका गेल लेकिन कोनो सुविधा न भेल।
बनावे वाला ठिकदार आशलरायण कहलथिन कि ए.पी.एल. से पांच सौ अउर बी.पी.एल. से तीन सौ रूपईया लेके पैतिस सौ वाला शौचालय लगभग तेइस गो बनइली हमरा सब के घटा भी बहुत लग गेल।
जिला परिषद रामनरेश साह कहलथिन कि कम रूपईया के कारण ओहन शौचालय बनल हई। पी.एच.इ.डी. के प्रखण्ड कोडिनेटर श्याम कुमार कहलथिन कि एन्जियों के द्वारा काम करावे के बन्द क देल गेलईह। अब लाभार्थि अपने से शौचालय बनइथिन। उनका सबके ए.पी.एल.अउर बी.पी.एल. परिवार के छेआलीस सौ रूपईया अउर महादालित के पच्पन सौ रूपइया भुगतान कयल जतई।