अनुष्का की साड़ी से चकाचौंध होने वालों, ज़रा देखो कारीगरों की ज़िन्दगी बाराबंकी जिले में

हर नारी कै पहली पसंद साड़ी, चाहे सुहाग कै जोड़ा हुवय या सजै संवरै कै कउनौ खास अवसर। सुन्दरता के दुनिया मा खास पहचान बाय जरी कै साड़ी अउर वकरे कलाकारी कै । मिलवाते हैं बाराबंकी जिला के  मीरापुर गाँव के जरी के कारीगर से।
मोहम्मद नसीम बताइन की 19 साल होइगा काम करत शुरू के टाइम तौ कबहूँ-कबहूँ पूरा साल काम चलत रहा। अबतौ सिर्फ ढाई तीन महीना काम मिलाथै। फरवरी से शादी कै सीजन शुरू होय जाए काम ख़तम होइगा बाय, जेका जवन सिलावै का रहा सिलाय लिहिस।
तांबा का गलाय के चांदी अउर सोने के पालिस से तैयार हुवय वाली जरी के साड़ी से लाग कारीगरन का झटका।
जरी के काम मा बहुत गिरावट आय गए बाय। मनई पहले अस्सी प्रतिशत अपने लड़कन का ई काम सिखावै चाहत रहिन लकिन अब दस प्रतिशत भी सिखावै नाय चहतिन। काहे से आज के दौर मा पांच सौ रुपया रोज चाही काहे से जब लड़कन का पढ़ाय न पाये।
कुलसुम बानों बताइन कि जरी के काम मा यतना गिरावट आयगए बाय। दो हप्ते से बैठे हैं
मोहम्मद नसीम बताइन की पहले जैसे काम मिलत रहा वैसे मिलै लागै इहै सरकार से मांग बाय। काम न मिलै कै कारण नोट्बंदी अउर जीएसटी आय। अब तौ स्थिति अउर भी बदतर होइगा बाय।

रिपोर्टर-नसरीन

  Published on Dec 13, 2017