अतिथि कॉलमिस्ट

अनीता भारती का फोटो अनीता भारती चर्चित कहानीकार, आलोचक, व कवयित्री हैं । सामाजिक कार्यकर्ताए दलित स्त्री के प्रश्नों पर निरंतर लेखन करती हैं । युद्धरत आम आदमी के विशेषांक स्त्री नैतिकता का तालिबानीकरण की अतिथि संपादक हैं । अपेक्षा पत्रिका की कुछ समय तक उपसंपादक थी । समकालीन नारीवाद और दलित स्त्री का प्रतिरोध (आलोचना पुस्तकद्ध), एक थी कोटेवाली (कहानी.संग्रह), यथास्थिति से टकराते हुए दलित स्त्री जीवन से जुड़ी कविताएं (संयुक्त संपादन), स्त्रीकाल के दलित स्त्रीवाद विशेषांक की अतिथि संपादक हैं । श्रूखसाना का घरश् तथा श्एक कदम मेरा भीश् (कविता संग्रह), सावित्रीबाई फुले की कविताएँ (सम्पादन), कदम पत्रिका का अम्बेडकरवादी विचारक डॉक्टर तेज़ सिंह पर विशेषांक की अतिथि संपादक हैं ।

सुमन गुप्ता सुमन गुप्ता उत्तर प्रदेश में वरिष्ठ पत्रकार हैं। वे फैज़ाबाद स्थित जन मोर्चा अखबार में काम करती हैं। इस समय वे यू.पी. स्तर पर पत्रकार हैं।

 

 

 

 निवेदिता झा बिहार में काम करने वाली एक वरिष्ठ पत्रकार हैं । वह लगभगपिछले २५ सालों से राजनैतिक और सामाजिक मुद्दों पे पत्रकारिता कर रही हैं ।

 

 

MM Columnist - Mamta Jaitly web

ममता जैतली राजस्थान में कई सालों से सामाजिक कार्यकर्ता हैं। वे लम्बे समय से नारीवादी आन्दोलन का हिस्सा रही हैं। उन्होंने 1998 में विविधा न्यूज़ फीचर्स की शुरूआत की थी जो महिलाओं पर हो रही हिंसा, और राजनीति में महिलाओं की भागीदारी पर फोकस करती है। वे राजस्थान में ‘उजाला छड़ी‘ नाम का अखबार प्रकाशित करती हैं जो विकास और अन्य स्थानीय मुद्दों पर खबरें छापता है

करुणा नंदी सुप्रीम कोर्ट में वकील है। वह मानव अधिकारों की वकालत करती हैं । उन्होंने बलात्कार के खिलाफ और रोज़ा रोटी अधिकार के कानूनों के लेखन में मदद की है. वह संयुक्त राष्ट्र और अन्य देशों की सरकारों के लिए एक सलाहकार भी हैं।

 

 

 डाक्टर मीरा शिवा मेडिकल डाक्टर हैं। जन स्वास्थ्यए महिलाओं के स्वास्थ्यए खाद्य और पोषण सुरक्षा जैसे  मुद्दों पर लंबे समय से काम कर रही हैं। इनका मानना है कि खाने के हक का सीधा संबंध सामाजिक और जेंडर न्याय से है। वह हेल्थ एंड इक्यूटी इन सोसायटीध् थर्ड वर्ड नेटवर्क की कोआर्डिनेटर हैं। डाइवर्स वुमेन फार डाइवर्सिटी संस्था की संस्थापक और इसकी स्टीयरिंग कमेटी की सदस्य हैं।

 

ऋतुपर्णा बोराह

ऋतुपर्णा बोराह जेंडर और यौनिकता के मुद्दे पर करीब दस सालों से काम कर रही हैं। इन मुद्दों पर वह प्रशिक्षण देने और पैरवी करने का काम भी करती हैं।

 

 

 

जया शर्मा जेंडर और यौनिकता के मुद्दों पर लिखती हैं, शोध करती हैं और ट्रेनिंग देती हैं। उन्होंने बीस साल निरंतर संस्था में जेंडर और शिक्षा पर काम किया।

 

 

 

 पूर्वा भारद्वाज लंबे समय से जेंडर, शिक्षा, भाषा आदि मुद्दों पर काम कर रही हैं। साहित्य में उनकी खास रुचि है। इन दिनों वे दिल्ली में रह रही हैं।

 

 

 

ritu

ऋतु सक्सेना करीब आठ सालों से पत्रकारिता कर रहीं हैं. इस समय दैनिक हिन्दुस्तान में काम कर रही हैं. इससे पहले  दैनिक भास्कर और इंडिया न्यूज़ में काम  कर चुकी है।

 

 

पिछले करीब पांच सालों से अलमास फातमी पत्रकारिता कर रही हैं। वर्तमान में यह पटना में दैनिक हिंदुस्तान अखबार में रिपोर्टर हैं।

 

 

 

ZEBA2 जेबा हसन नवभारतटाइम्स में वरिष्ठ संवाददाता हैं। यह पिछले 11 सालों से पत्रकारिता कर रही हैं।

 

 

 

 

स्वाति माथुर लखनऊ के जाने-माने अंग्रेज़्ाी अखबार में राजनीति, सरकारी मुद्दे और नीति निर्माण से जुड़े मुद्दों पर लिखती हैं। उन्हें खेती, ग्रामीण जीवन और औरतों के बारे में भी लिखना पसंद है।

 

 

आँचल लखनऊ के जाने-माने अखबार में बतौर पत्रकार काम करती है। पिछले सात आठ सालों से वे पत्रकारिता कर रही हैं।

प्रांजलि ठाकुर लखनऊ में रहने वाली पत्रकार हैं जो अलग -अलग अखबारों के लिए लिखती हैं। वो उत्तर प्रदेश के ज्वलंत मुद्दों पर राज्य के कई बड़े अखबारों में काम कर चुकी हैं।

लखनऊ की वरिष्ठ पत्रकार सारा जमाल कई अखबारों के लिए लिख चुकी हैं।

05-02-15 Mahila Mudda - Amrita Kumari web अमृता कुमारी बिहार के समस्तीपुर जि़ले में स्वतंत्र पत्रकार हैं।पिछले करीब अट्ठारह सालों से पत्रकारिता कर रहीं  हैं। राजनीतिक, सामाजिक मुद्दों में गंभीर रिपोर्टिंग कर चुकी हैंं। यह विचार उनके हैं।